इस महिला क्रिकेटर ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, शिवराज सरकार नकद पुरस्कार से करेगी सम्मानित

0
6

भोपाल। इंग्लैंड में वीमेन क्रिकेट वल्र्ड कप में रनर अप रही इंडियन क्रिकेट टीम की कैप्टन मिताली राज भोपाल आ रही हैं। आपको बता दें कि वे 16 अगस्त को राजधानी भोपाल में एशियन यूथ सम्मीट में भाग लेने आ रही हैं।

14 अगस्त से शुरू होगी यूथ सम्मीट

14 अगस्त से प्रदेश में एशियन यूथ सम्मीट का आयोजन किया जा रहा है। यह सम्मीट 19 अगस्त तक जारी रहेगी। इस सम्मीट में भाग लेने आ रही है भारतीय क्रिकेट टीम की कैप्टन मिताली। वे १६ अगस्त को भोपाल हमें होंगी। इस मौके पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान टीम को नकद पुरस्कार देकर सम्मानित करने की घोषणा की है।

50 लाख रुपए का नकद पुरस्कार

वल्र्ड कप में इंग्लैंड टीम ने मैच जीता। भारतीय टीम केवल ९ रन से जीत का स्वाद चखते-चखते रह गई। सीएम शिवराज ने घोषणा की है कि वे इस वल्र्ड कप में रनर अप रही भारतीय महिला क्रिकेट टीम को शिवराज सरकार ५० लाख रुपए का नकद पुरस्कार देकर सम्मानित करेगी।

मिताली ने सर्वाधिक स्कोर 214 रन बना कर तोडा था आस्ट्रेलिया की करेन बोल्टन का रिकार्ड

* इंग्लैंड में खेले गए इंटरनेशनल टूर्नामेंंट में महिला वल्र्ड कप में भारतीय टीम सिर्फ ९ रन से हारकर रनर अप टीम बनी। इसके बाद से चर्चा में आई टीम की कैप्टन मिताली राज ६ अगस्त को भोपाल में होंगी।
* वे यहां एशियन यूथ सम्मीट में भाग लेंगी।
* मिताली दूसरी बार भोपाल आएंगी। इससे पहले वे दिसंबर 2011 में भोपाल आई थीं।
* जब उन्होंने रेलवे के लिए इंटर स्टेट वीमेन टी-20 कॉम्पिटिशन के तहत बाब-ए-अली क्रिकेट स्टेडियम मेंं क्रिकेट खेला था।

* आपको जानकर हैरानी होगी कि मिताली ऐसी महिला क्रिकेटर हैं, जिन्होंने महिला क्रिकेटर का रिकॉर्ड तोड़ कर सबसे ज्यादा रन बनाने वाली महिला क्रिकेटर का खिताब अपने नाम किया।
* * मिताली ने आज तक का सर्वाधिक स्कोर 214 रन बना कर आस्ट्रेलिया की करेन बोल्टन का रिकार्ड तोड़ दिया जिसने 209 रन बना कर रिकार्ड स्थापित किया था।
* राजस्थान के जोधपुर में ३ दिसंबर 1982 को जन्मी मिताली क्रिकेट के शौक के कारण भरतनाट्यम की क्लास मिस करती थीं।
* तब उनकी गुरु ने उन्हें क्रिकेट खेलने की सलाह दी और उन्होंने स्टेज प्रोग्राम करने के बावजूद भरतनाट्यम की क्लासेस बंद कर दी थीं।

* क्रिकेट को अपना कॅरियर बनाने वाली मिताली की मां गवर्नमेंट ऑफिसर थीं। लेकिन बेटी के खेल पर फोकस बनाए रखने के लिए उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी थी।
* मिताली के पिता एक क्रिकेट खिलाड़ी रहे हैं। वहीं उनके भाई को भी क्रिकेट कोचिंग दी जाती थी। इस बीच वे कभी-कभी मौका मिलते ही बॉल को घुमाकर फेंक देती थीं।

* भाई के कोच ने इस बात को नोटिस किया और कहा था कि वे एक बेहतरीन क्रिकेट खिलाड़ी बनेगी।
* हैदराबाद की मिताली राज ने एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में 1999 में पहली बार भाग लिया।
* यह मैच मिल्टन कीनेस, आयरलैंड में हुआ था जिसमें मिताली ने नाबाद 114 रन बनाए।
* उन्होंने 2001-2002 में लखनऊ में इंग्लैंड के विरुद्ध प्रथम टैस्ट मैच खेला।

* मिताली जब प्रथम बार अंतराराष्ट्रीय टेस्ट मैच में शामिल हुईं तो बिना कोई रन बनाए डक ज़ीरो पर आउट हो गई।
* उसने अपने कैरियर में अपनी मेहनत के दम पर आगे बढ़कर दिखाया और अंतरराष्ट्रीय महिला क्रिकेट में आज तक का सर्वाधिक स्कोर 214 रन बना कर कीर्तिमान स्थापित किया।

* यह इतिहास उसने इंग्लैंड के ख़िलाफ़ खेलते हुए 2002 में बनाया। यह महिला क्रिकेट का सर्वाधिक रन रिकॉर्ड है।
* 2006 में मिताली राज के नेतृत्व में महिला क्रिकेट टीम ने पुनः इंग्लैंड का दौरा किया। सभी खिलाड़ी बहुत ट्रेनिंग लेकर वन डे इंटरनेशनल खेलने गई थीं।

* यह बी.सी.सी.आई. (क्रिकेट बोर्ड) तथा वीमेंस क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया के एकीकरण की ओर क़दम था।
* मिताली की अगुआई में भारतीय टीम ने टांटन में इंग्लैंड को दूसरे टैस्ट में पाँच विकेट से करारी शिकस्त देकर दो मैचों की शृंखला 1-0 से जीत ली।

* इस प्रकार मिताली के नेतृत्व में महिला क्रिकेट टीम ने इंग्लैंड को उसकी ही ज़मीन पर मात दे दी, जिससे मिताली को भरपूर प्रंशसा मिली, साथ ही जीत का श्रेय भी।

* मिताली ने आज तक का सर्वाधिक स्कोर 214 रन बना कर आस्ट्रेलिया की करेन बोल्टन का रिकार्ड तोड़ दिया जिसने 209 रन बना कर रिकार्ड स्थापित किया था।
* मिताली ने ‘महिला विश्व कप 2005’ में भारतीय महिला टीम की कप्तानी की।
* उन्होंने 2010,2011 एवं 2012 में आईसीसी वर्ल्ड रैंकिंग में प्रथम स्थान प्राप्त किया।

उन्हें रही ये शिकायत

* पिछले दिनों वल्र्ड कप के बाद पहली बार भोपाल आई नुजहत का को शिकायत रही कि उनके पास पास केवल एक इंटरनेशनल मैच का ही अनुभव था इसीलिए कप्तान मिताली उन्हें खिलाकर रिस्क नहीं लेना चाहती होंगी कि इसीलिए उन्होंने पूरे टूर्नामेंट में उन्हें खेलने का मौका ही नहीं दिया।

NO COMMENTS