मैदान पर बाल-बाल बचा ये भारतीय खिलाड़ी, फिर घट सकती थी ये जानलेवा घटना

0
6

क्रिकेट का खेल जितना मनोरंजक और मजेदार है उतना ही खतरनाक भी। एक गेंद में क्या कुछ हो जाए कोई नहीं जानता? गेंदबाज़ की एक गेंद बल्लेबाज़ को ऐसी चोट दे सकती है जो जिंदगी भर ठीक न हो, तो बल्लेबाज़ का एक शॉट मैदान पर फील्डिंग कर रहे खिलाड़ी के लिए जानलेवा साबित हो सकता है। क्रिकेट के मैदान पर एक बार फिर से एक ऐसी ही घटना घटी लेकिन अच्छी बात ये रही की इस घटना में ये भारतीय खिलाड़ी एक दम ठीक-ठाक रहा और फिर से मैदान पर लौट आया।

बाउंसर ने फिर डराया

रणजी ट्रॉफी में ग्रुप -डी के मुकाबले में बंगाल के नवोदित गेंदबाज की बाउंसर विदर्भ के मध्यक्रम के बल्लेबाज आदित्य सरवटे के हेलमेट में लगी। इससे उनके सिर पर हल्की चोट आई जिसके कारण उन्हें कुछ समय तक मैदान के बाहर रहना पड़ा। सरवटे कल्याणी में बंगाल क्रिकेट अकादमी के मैदान पर 60 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे, तभी ईशान पोरेल की गेंद उनके हेलमेट से टकराई। इसके चलते सरवटे कुछ समय के लिए चकरा गए और उन्होंने तुरंत मैदान छोड़ दिया। हालांकि लोगों ने तब राहत की सांस ली, जब वह थोड़ी देर बाद बल्लेबाजी करने वापस आ गए। पोरेल की गेंद पर विकेटकीपर ऋद्धिमान साहा के हाथों कैच आउट होने से पहले सरवटे ने 93 गेंदों पर 89 रन बनाए।

मैदान में हादसों के शिकार हुए खिलाड़ी

रमन लांबा (भारत) : एक क्लब मैच के दौरान रमन लांबा बिना हेलमेट पहने फील्डिंग करने उतरे थे और सिर पर गेंद लगने के कारण चोटिल हो गए थे। 22 फरवरी 1998 उनकी मौत हो गई थी।

जुल्फिकार भट्टी (पाकिस्तान) : 2013 में जुल्फिकार को बल्लेबाजी करते हुए गेंद सीने पर लगी। उन्हें अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया।

रिचर्ड ब्यूमेंट (इंग्लैंड) : इस क्रिकेटर की 2012 में अपने क्लब के लिए पांच विकेट लेने के बाद पिच पर कुछ ही क्षणों में मौत हो गई थी। गेंदबाजी करते समय दिल का दौरा पड़ा। अस्पताल में उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

फिल ह्यूज (ऑस्ट्रेलिया) : सिडनी में 25 नवंबर 2014 को दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के साथ घरेलू मैच के दौरान न्यू साउथ वेल्स के गेंदबाज सीन एबॉट की गेंद ह्यूज की गर्दन में लग गई थी। वह मैदान पर ही गिर पड़े थे। अस्पताल में ब्रेन हैमरेज से उनकी मौत हो गई थी।

NO COMMENTS