गुड न्यूज लाएगा इस बार का बजट! मिल सकता है इनकम टैक्‍स कटौती का तोहफा

0
8

अगले वित्त वर्ष का बजट 1 फरवरी को पेश हो सकता है. 31 जनवरी को आर्थिक सर्वे पेश किया जा सकता है, जिसमें इकोनॉमी की तस्‍वीर साफ होगी. संसद के बजट सत्र की शुरुआत 30 जनवरी को हो सकती है. यानी अगले साल जनवरी महीने में ही दूसरी बार संसद का सत्र बुलाया जाएगा. शीतकालीन सत्र 5 जनवरी तक चलेगा और 30 जनवरी से बजट सत्र शुरू होगा. सूत्रों के अनुसार, बजट में जिस मुद्दे पर लोगों का सबसे अधिक ध्‍यान होगा, वह है- इनकम टैक्‍स रेट्स और स्‍लैब्‍स में कमी.

मिडिल क्‍लास को मिलेगा तोहफा
माना जा रहा है कि चूंकि 2019 में आम चुनाव होंगे, इसे देखते हुए इनकम टैक्‍स रेट्स में बदलाव कर सरकार बड़ी आबादी वाले प्रभावशाली मध्‍य वर्ग को खुश करना चाहेगी. वैसे भी डायरेक्‍ट टैक्‍स कोड में जरूरी बदलाव के लिए कमिटी का गठन किया जा चुका है, जो कुछ सप्‍ताहों में अपनी सिफारिशें देगी. इसके बाद इनकम टैक्‍स से जुड़े कई अहम बदलाव होने की संभावना है.

गौरतलब है कि ब्रिटिश काल से चली आ रही परंपरा को तोड़ते हुए वर्तमान वित्‍त वर्ष के दौरान भी 1 फरवरी को ही बजट पेश किया गया था. इससे पहले बजट फरवरी महीने के अंत में पेश किया जाता था. इसी साल से रेलवे बजट को आम बजट में मिलाया गया है.

जीएसटी का बाद का पहला बजट
2018-19 का बजट जीएसटी लागू होने के बाद का पहला बजट होगा. यह बजट मोदी सरकार का आखिरी पूर्ण बजट भी होगा. इसके अगले साल यानी 2019 में चुनाव होंगे, इसलिए उस साल परंपरा के मुताबिक अनुपूरक बजट पेश किया जाएगा.

दो सत्रों में एक महीने से कम का अंतर
संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत 15 दिसंबर को होगी और इसका अंत 5 जनवरी को होगा. इस तरह शीतकालीन सत्र और बजट सत्र में एक महीने से भी कम का फासला होगा.

एक्‍साइज और सर्विस टैक्‍स से जुड़े प्रस्‍ताव नहीं होंगे!
सूत्रों ने कहा कि चूंकि जीएसटी काउंसिल के प्रमुख केंद्रीय वित्‍त मंत्री हैं और इसमें सभी राज्‍यों के प्रतिनिधि होते हैं, ऐसे में अगले वित्‍त वर्ष के बजट में एक्‍साइज और सर्विस टैक्‍स से जुड़े कर प्रस्‍ताव नहीं होने की संभावना है, क्‍योंकि ये दोनों जीएसटी में मिला लिए गए हैं.

नई स्‍कीम्‍स और प्रोग्राम्‍स होंगे बजट में
हालांकि पर्सनल इनकम टैक्‍स, कॉरपोरेट टैक्‍स के साथ कस्‍टम ड्यूटी में बदलाव से जुड़े प्रस्‍ताव आगामी बजट में हो सकते हैं. इसमें सरकार नई स्‍कीमों और प्रोग्राम्‍स की भी घोषणा कर सकती है.